विवेक तिवारी मर्डर केस: कोई लॉलीपाप काम नहीं आया, सिपाहियों ने…

0
371

Lucknow.  एपल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी के हत्याकांड के बाद जेल भेजे गए सिपाही प्रशांत चौधरी और आनंद कुमार के समर्थन में पुलिस महकमे के सिपाही मैदान में उतर आए हैं। डीजीपी साहेब का कोई भी लॉलीपाप काम नहीं आ रहा है। 5 अक्टूबर के विरोध पर डीजीपी साहब ने चुन चुन कर सिपाहियों पर कार्रवाई की तो इस बार सबने अपनी शिनाख्त छिपाकर काली पट्टी बांधकर विरोध किया।

यहां तुम डाल डाल हम पात पात का खेल चल रहा है। विभाग ने 25000 सिपाहियों को दीवान बनाने की लॉलीपॉप दी है वहीं बॉर्डर स्कीम खत्म करने का झुनझुना भी सिपाहियों को लुभा न सका। विरोध के बावजूद सिपाही जांबाजी से अपनी ड्यूटी कर रहे हैं। रायबरेली ट्रेन हादसे में dial100 के सिपाहियों ने दर्जनों लोगों की जान बचाई। यही हमारी पहचान है यही ताकत।

इन सिपाहियों के आला हुक्कामों को यह समझना होगा कि सिपाही अपने कर्तव्य से पीछे नहीं हट रहा लेकिन वह अपनी मांगों को लेकर अभी चुप्पी साध कर सांकेतिक विरोध कर रहा है। अब इसके सांकेतिक विरोध की इतनी अनदेखी ना करिए की सिपाही,ज़िंदाबाद और मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here