यूपी में अब 3 शिफ्टों में चलेंगे आॅफिस, जानें क्या है नया नियम

0
98

आर्य टीवी डेस्क। यूपी सरकार ने लॉकडाउन-4 में धीरे-धीरे छूट देनी शुरू कर दी है ताकि चीजों को पटरी पर लाया जा सके। पिछले 2 महीने से ज्यादा समय से ठप पड़ा सरकारी दफ्तरों का कामकाज अब 50 फीसदी कर्मचारियों के साथ शुरू हो जाएगा। आॅफिसों में आधे कर्मचारी एक दिन आएंगे और आधे दूसरे दिन। इसके साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग को सुनिश्चित करने के लिए कर्मचारियों को तीन शिफ्टों में बुलाया जाएगा। पहली शिफ्ट प्रात: 9 से शाम 5 बजे, दूसरी शिफ्ट प्रात: 10 से शाम 6 बजे और तीसरी शिफ्ट 11 से शाम 7 बजे तक होगी। सोमवार को ईद की छुट्टी है। मंगलवार से प्रदेश के सभी सरकारी दफ्तरों में नई व्यवस्था लागू हो जाएगी।

आफिस चलाने की व्यवस्था नए सिरे से तय
अपर मुख्य सचिव नियुक्ति एवं कार्मिक मुकुल सिंहल शनिवार को आदेश जारी करते हुए प्रदेशभर के सरकारी कार्यालयों को चलाने की व्यवस्था नए सिरे से तय कर दी है। प्रदेश के सभी विभागाध्यक्ष व कार्यालयाध्यक्ष आफिस खोलने की व्यवस्था करेंगे। इसके साथ ही स्वयं आफिस में रहेंगे। कार्यालय में प्रत्येक कार्यदिवस 50 फीसदी कर्मियों की उपस्थिति सुनिश्चित कराएंगे। इसके लिए विभागाध्यक्ष व कार्यालयाध्यक्षों के स्तर पर आवश्कता का निर्धारण करते हुए रोस्टर तय किया जाएगा।

आर्य टीवी नेटवर्क में जिला संवाददाता, स्टेट ब्यूरो की जरूरत। अगर आप भी पत्रकारिता में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं तो 8924856004 पर संपर्क करें।

रोस्टर से बुलाए जाएंगे कमी
आफिसों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए रोस्टर के हिसाब से कर्मियों को बुलाया जाएगा। अल्टरनेट दिवस में कर्मचारियों को कार्यालय बुलाया जाएगा। इसके साथ ही यह भी ध्यान रखा जाएगा कि शासकीय काम में किसी तरह का कोई व्यवधान न आने पाए। कार्य अवधि में सोशल डिस्टेंसिंग व अन्य सुरक्षात्मक उपयोगों का पूरा ध्यान रखा जाएगा। प्रत्येक कर्मचारी अपने मोबाइल में यथासंभव आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड कर उसका उपयोग करेंगे।

हॉटस्पाट क्षेत्रों में डीएम फैसला करेंगे
हॉटस्पाट वाले क्षेत्रों में कोई भी फैसला डीएम करेंगे। वे इस संबंध में अलग से आदेश जारी करेंगे। जहां आफिस खुलेगा वहां रोस्टर के अनुसार घर से काम करने वाले कर्मी इस अवधि में अपने मोबाइल व इलेक्ट्रॉनिक साधनों के माध्यम से कार्यालय के संपर्क में रहेंगे। उन्हें जरूरत पड़ने पर कार्यालय बुलाया जाएगा। अधीनस्थ कार्यालयों स्थानीय निकायों, निगमों आदि के लिए भी इसी प्रकार से व्यवस्था की जाएगी।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here