आज की नौटंकी: अनूप जलोटा और एम जे अकबर की गुफ्तगू

0
87

अनूप जलोटा ने एम जे अकबर से कहा- तुम जैसे पत्रकार पत्रकारिता का धर्म भुला कर राजनीतिक दलों का भजन गाते हो। फिर कोई पार्टी तुम जैसों को मंत्री बना देती है और तब सरकार का भजन गाते रहते हो।

एम. जे. अकबर : तुम कहना क्या चाहते हो !

अनूप जलोटा : राजनीति पार्टियों या सरकारों का भजन गाने के बजाय मेरी तरह भगवान का भजन गाया होता तो मेरे जैसा सुख मिलता, दुख नहीं।

एम जे अकबर : कैसा सुख, कौन सा दुख !

अनूप जलोटा : भगवान मुझे देता है और तुम छीनते हो। छीनने के चक्कर में तुम जैसों का मान-सम्मान छिन जाता है।

एम जे अकबर : मुझे भी भगवान का भजन सिखा दो। बिग बॉस में तुम्हारी जगह भी खाली हो चुकी है।

अनूप जलोटा : निकल लो पतली गली से। जेल में तहलका मचाने वाले तरुण तेजपाल की बेरिक भी खाली हो चुकी है।
व्यंग्य/नवेद

साभार— पत्रकार नावेद सिकोह की वाल से

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here