इस बार रामलीला में नया प्रयोग, आप भी जान लें

0
2129

कला और संस्कृति से सराबोर हमारा गांव हर पायदान पर गुणवान, संस्कारवार, प्रतिभावान रहा है। बेटों ने ही नहीं बेटियों ने भी यहां यश कीर्ति के झंडे गाड़े हैं। हालही में एक बेटी को लंदन में स्थित विश्व की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी में दाखिला मिला था। यही कारण है कि यहां बेटा बेटी एक समान की परंपरा कायम है। विगत 36 वर्षों से अनवरत चल रहा दशहरा मेला ने हालही में अपना 37वां आयोजन सम्पन्न किया।

हर बार कि तरह इस बार भी कुछ अलग ही था। जहां हर साल बेटे ही राम लक्ष्मण की भूमिका अदा करते रहे, परंतु इस बार विनय मिश्रा (सीमू अंकल) द्वारा विशेष प्रयोग कर बेटियों को राम लक्ष्मण की भूमिका में मंच पर उतारकर बराबरी के अधिकार को और मजबूत करने का काम किया। इस प्रयोग के लिए शुक्रिया।

दोस्तों हम बात कर रहे हैं राजधानी लखनऊ के ब्लाक बीकेटी में स्थित कुम्हरावां गाव की।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here