सरकार की महत्वाकांक्षी योजना का बुरा हाल, बड़ा आन्दोलन करेंगे विशेष शिक्षक

0
58

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विशेष शिक्षक एसोसिएशन मण्डल/जिला अध्यक्ष एवं सक्रिय सदस्यों की बैठक आहूत की गई जिसमें सर्वसम्मति से निम्नांकित समस्याओं पर चर्चा कर रणनीति बनाई गई। दिव्यांग बच्चों को तकनीकी शिक्षा से परिपूर्ण कर उन्हें पुनर्वास सेवाएं देने के उद्देश्य से चलाई जाने वाली योजना उत्तर प्रदेश में बेहाल है। इन बच्चों का भविष्य सुधारने के लिए तैनात विशेष शिक्षकों को उनके हक से लगातार वंचित किया जा रहा है। लगभग 13 वर्ष बीत जाने पर भी इन शिक्षकों की कोई नियमावली नहीं बनी है। 10 सूत्रीय मांगों को लेकर वर्ष 2008 में संगठन द्वारा चलाये गये आन्दोलन के फलस्वरुप तीन मांगों पर सहमति बनी थी लेकिन 10 वर्ष बीतने वाले हैं और अब तक कोई आदेश जारी नहीं किए गए है। यही नहीं उत्तर प्रदेश विशेष शिक्षक एसो0 के अनुरोध पर वर्ष 2016 में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष श्री हरि किशोर तिवारी द्वारा तद्कालीन मुख्य सचिव श्री आलोक रंजन से हुई वार्ता के उपरान्त मुख्य सचिव द्वारा 21 जून, 2016 को स्पष्ट रुप से सचिव बेसिक शिक्षा से रिसोर्स एवं इटिनरेन्ट टीचर्स के समायोजन का प्रस्ताव मांगा गया था जिसे विभागाध्यक्ष द्वारा आज तक नहीं भेजा गया है।

यही नहीे दिनांक 12 जनवरी, 2017 को राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष श्री हरि किशोर तिवारी जी व परिषद के महामंत्री श्री शिवबरन सिंह यादव जी की अध्यक्षता में दिनांक 05.02.2018 की अधिकारिक बैठक मंें सभी मांगो पर निदेशक सर्व शिक्षा अभियान ने पूर्ण सहमति व्यक्त करते हुए दिनांक 08.02.2018 को प्रस्तावित धरने को स्थगित करवा दिया परन्तु किसी भी मांग का निस्तारण नहीं किया। इससे सभी विशेष शिक्षकों में व्यापक रोष देखा गया। आज की बैठक को सम्बोधित करते हुए उत्तर प्रदेश विशेष शिक्षक एसो0 के अध्यक्ष अनुज कुमार शुक्ला ने कहा कि 12 जनवरी, 2017 की बैठक में तय हुआ था कि मानदेय रु0 18000 रु0 नियत किया जाएगा जिसकी कास्टशीट भी भेज दी गयी थी तथा जनपदों द्वारा आर0टी/आई0टी0 का मानदेय रु0 18000 की दर से निदेशक को प्रेषित कर दिया गया था। परन्तु रु0 14500 का भुगतान ही किया गया तथा 05.02.2018 को हुई बैठक में तय हुआ था कि 10ः की बढ़ोत्तरी की जायेगी। परन्तु मानदेय में यात्रा भत्ता में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की गयी है।

वर्तमान समय मंें सरकार की धोखाधड़ी ने प्रदेश में विशेष शिक्षक के रुप में कार्य कर रहे 2000 से अधिक विशेष शिक्षकों को दो राहे पर खड़ा कर दिया है। बैठक को सम्बोधित करते हुए राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष हरि किशोर तिवारी व महामंत्री श्री शिवबरन सिंह यादव जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश विशेष शिक्षक एसो0 की समस्त मांगें जायज हैं जब समान कार्य है तो समान वेतन और अन्य सुविधाएं विशेष शिक्षकों का हक बनता है बैठक में निदेशक द्वारा यह कहा गया था कि शीध्र ही स्वतः नवीनीकरण हेतु प्रभावी नीति बना दी जायेगी परन्तु नहीं बनाई गई परिषद विशेष शिक्षकों के आन्दोलन का पूर्ण समर्थन करेगा तथा हर स्तर पर अपना सहयोग देगा।

विभागीय तानाशाही एंव सरकार के रवैये के प्रति विशेष शिक्षकों में कुंठा एवं आक्रोश व्याप्त हैं तथा बैठक में पूरे जोर-शोर से तुरन्त आन्दोलन करने पर बल दिया गया इस पर संगठन द्वारा शीघ्र ही आन्दोलन घोषित करने का निर्णय लेते हुत अध्यक्ष को तिथि निर्धारित करने हेतु अधिकृत कर दिया गया।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here