एकजुट हो रहे विपक्ष को मौके पर दगा दे गए नीतीश, कहा…

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर संगठित हो रहे विपक्ष को करारा झटका लगा है। एनडीए के कभी करीबी रहे जनता दल यूनाइटेड प्रमुख और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ऐलान कर दिया है कि जेडीयू रामनाथ कोविंद का सर्मथन करेगी।

1
2965

लखनऊ। राष्ट्रपति चुनाव को लेकर संगठित हो रहे विपक्ष koको करारा झटका लगा है। एनडीए के कभी करीबी रहे जनता दल यूनाइटेड प्रमुख और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ऐलान कर दिया है कि जेडीयू रामनाथ कोविंद का सर्मथन करेगी। नीतीश ने इसके लिए अपने विधायकों को निर्देश भी दे दिए हैं कि वह कोविंद का समर्थन करें।

समर्थन में उतरीं माया
बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी इससे पहले रामनाथ कोविंद का समर्थन किया था। उन्होंने कहा था कि कोविंद कोरी परिवार से हैं उनके प्रति हमारा और पार्टी का रवैया सकारात्मक रहेगा। हालांकि उनकी राजनीतिक पृष्ठभूमि आरएसएस और बीजेपी से जुड़ी है।

केजरीवाल को भी टटोलने की कोशिश
बुधवार को राजधानी के कनॉट प्लेस में आयोजित योग कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उप राज्यपाल अनिल बैजल, केंद्रीय मंत्री एम. वेंकैया नायडू समेत कई नेताओं के साथ एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार और बिहार के पूर्व राज्यपाल रामनाथ कोविंद ने हिस्सा लिया था। खबर है कि इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बहाने वह केजरीवाल समेत कई नेताओं को टटोलने और उनसे समर्थन हासिल करने की कोशिश की गई।

नीतीश के ऐलान के बाद विपक्ष हैरान

नीतीश के इस ऐलान के बाद विपक्ष सकते में है। हालांकि गुरुवार को कांंग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के नई दिल्ली स्थित अपने आवास पर विपक्षी दलों के नेताओं को बुलाया है, ताकि राष्ट्रपति चुनाव को लेकर रणनीति तैयार की जा सके। अब देखना यह है कि इस मीटिंग में आखिर कौन कौन विपक्षी दल हिस्सा लेंगे।

गृहमंत्री ने आम सहमति के लिए सोनिया से की थी मुलाकात
एनडीए कैंडिडेट की घोषणा से पहले राष्ट्रपति चुनाव में आम सहमति बनाने के लिए गृहमंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली और वेंकैया नायडू कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने गए थे। हालांकि इस दौरान उनके बीच सिर्फ 20 मिनट तक बातचीत हुई और कोई नतीजा नहीं निकल पाया था।

अखिलेश की पार्टी छोड़ मुलायम ने किया मोदी के साथ डिनर
समाजवादी पार्टी अध्यक्ष और अपने बेटे अखिलेश यादव की 19 जून को प्रदेश कार्यालय में आयोजित रोजा इफ्तार पार्टी में मुलायम सम्मिलित नहीं हुए जबकि मंगलवार को योगी के डिनर कार्यकम में वह मोदी के साथ खड़े दिखाई दिए। इससे साफ है कि राष्ट्रपति चुनाव में मुलायम बीजेपी के साथ खड़े होंगे।

विपक्षी दल लगातार राष्ट्रपति चुनाव को लेकर एकजुट होने का दम भर रहे हैं। पिछले दिनों सोनिया गांधी ने दिल्ली में एक मीटिंग की थी जिसमें सभी गैर एनडीए दलों को बुलाया गया था। इसमें ममता बनर्जी, लालू यादव और शरद यादव शामिल हुए थे। वहीं नीतीश ने इस पार्टी में शिरकत नहीं की थी। एक बार फिर 22 जून को सोनिया गांधी ने सभी विपक्षी दलों के साथ नई दिल्ली स्थित अपने आवास पर मीटिंग करेंगी। गुरुवार को ममता बनर्जी, लालू यादव, अखिलेश यादव, शरद यादव, मायावती समेत कई नेता शिरकत कर सकते हैं।

loading...

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here