मंत्री जी! अब तो करिए कार्रवाई, ये रहा स्टैंप पर लिखित भ्रष्टाचार का शिकायती पत्र

0
1785

सीतापुर। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से महज 35 किमी दूर सिधौली ब्लाक के जजौर गांव में प्रधानमंत्री आवास में हुए भ्रष्टाचार का भंडाफोड़ होने के चार महीने बाद भी अब तक ग्राम प्रधान, सेक्रेटरी और अन्य जुड़े अधिकारियों पर कोई कार्रवाई नहीं हो सकी है। हालांकि ग्रामीण विकास व समग्र ग्राम विकास मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) महेंद्र सिंह ने दृष्टान्त के पत्रकार सुयश मिश्रा से बातचीत में प्रधानमंत्री आवास में हो रहे भ्रष्टाचार की जांच करवाकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बात कही थी। साथ ही उन्होंने कहा था कि अगर प्रधानमंत्री आवास में भ्रष्टाचार की शिकायत कोई भी लाभार्थी स्टांप पेपर पर लिखकर देगा तो हम विश्वास दिलाते हैं कि प्रधान और भ्रष्टाचार से जुड़े लोग जेल जाएंगे।

मंत्री जी वादा निभाइए
जजौर गांव की जनता अब ग्राम्य विकास मंत्री महेंद्र सिंह से वादा निभाने की मांग कर रही है। सोमवार को दृष्टान्त मैग्जीन का दिसंबर का अंक मिलने के बाद ग्रामीणों ने मंत्री जी से न्याय की गुहार लगाई है। ग्रामीण कह रहे हैं कि मंत्री जी अब तो कार्रवाई करवाइए।

क्या कहा था मंत्री ने

आपको बता दें कि मंत्री जी ने स्टैंप पेपर पर लिखकर प्रधानमंत्री आवास में हुए भ्रष्टाचार की शिकायत करने को कहा था। ग्रामीण विकास व समग्र ग्राम विकास मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) महेंद्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास 2011 में सोशल इकनाॅमिक कंडीशन के आधार पर हुए सर्वे के मुताबिक बनाई गई सेक लिस्ट के आधार पर दिए जा रहे हैं। इसी के आधार पर भारत सरकार द्वारा आवास आता है। सेक लिस्ट में अगर कोई अपात्र है तो लोकल एडमिनिस्ट्रेशन की जिम्मेदार है कि जो भी सूची में अपात्र हैं उनको हटाया जाए। माॅनीटरिंग करने की जिम्मेदारी उनकी ही है।

आवास में जो भी पैसा आता है वह सीधे लाभार्थी के खाते में आता है। आप द्वारा यह मामला मेरे संज्ञान में लाया गया है कि जजौर गांव में पीएम आवास में भ्रष्टाचार हुआ है। मैं तत्काल इसकी जांच करवाकर दोषियों पर उचित कार्रवाई करवाऊंगा। हमने पम्पलेट छपवाकर, होर्डिंग्स लगाकर जागरुकता फैलाने का काम किया है, ताकि लाभार्थियों से किसी भी प्रकार का शुल्क न लिया जा सके। सीतापुर में हमने पांच प्रधानों को जेल भी भेजा है। जिस दिन कोई भी लाभार्थी स्टैंप पेपर पर लिखकर देगा कि प्रधान ने हमसे पैसा लिया है। या फिर किसी पुराने आवास को रंगवाकर प्रधानमंत्री आवास बताकर पैसा निकाला गया है तो प्रधान को जेल भेजा जाएगा। साथ ही पूरा पैसा वापस लिया जाएगा।

क्या है पूरा मामला
दरअसल जजौर गांव में ग्राम प्रधान, सिक्रेटरी और वीडियो की मिलीभगत से प्रधानमंत्री आवास में जमकर लूट हुई है। ग्रामीणों का आरोप है कि ग्राम प्रधान ने गांव में खेल के मैदान (युवक मंगल दल) के नाम से आवंटित सरकारी जमीन पर बिना राजस्व विभाग की अनुमति के बाहरी लोगों को वोट बैंक के लिए 10 पीएम आवास और 10 शौचालय बनवा दिए। आवास निर्माण के दौरान वर्तमान लेखपाल सच्चिदानंद द्विवेदी ने मौके पर पहुंचकर कार्य रुकवा दिया था और कहा था कि यह जमीन सरकारी है बिना राजस्व की अनुमति के यहां आवास नहीं बनाए जा सकते। बावजूद इसके रातोरात प्रधान द्वारा आवास बनावा दिए गए। इतना ही नहीं कई अपात्रों को आवास दिया गया। वहीं ग्रामीणों का आरोप है कि कुछ पुराने मकानों को ही पुतवाकर पीएम आवास बताकर भर्जी तरीके ​से लूट की गई है। ग्रामीणों ने स्टांप पेपर पर इसकी शिकायत की है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here