बिहार को तोहफा: पीएम मोदी कटिहार-नई दिल्ली एक्सप्रेस को दिखाएंगे हरी झंडी

0
1007

New Delhi. सत्याग्रह के शताब्दी वर्ष में आयोजित सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार और चंपारण को कई सौगात देंगे। इस मौके पर प्रधानमंत्री आठ योजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन करेंगे। वे मंगलवार को मोतिहारी के गांधी मैदान में आयोजित स्वच्छाग्रही सम्मेलन को भी संबोधित करेंगे।

इनमें केंद्र के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रलय की लगभग 1186 करोड़ की दो बड़ी योजनाएं भी शामिल हैं। इनमें पटना की मेगा सीवरेज योजना है, जिसमें सैदपुर सीवरेज नेटवर्क, पहाड़ी एसटीपी, पहाड़ी सीवरेज सिस्टम और पहाड़ी सीवरेज स्कीम है। इस मंत्रलय से मोतिहारी में मोतीझील का सौंदर्यीकरण व संरक्षण योजना को भी कार्यान्वित किया जाना है। इस पर लगभग 22 करोड़ रुपये खर्च किये जाने हैं। इसके अलावा रेल मंत्रलय की भी दो योजनाएं हैं, जिनमें चंपारण हमसफर ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर वे रवाना करेंगे। यह ट्रेन कटिहार से दिल्ली के लिए हफ्ते में दो बार चलेगी। दूसरी योजना मुजफ्फरपुर से सुगौली और सुगौली से वाल्मीकिनगर तक ट्रैक का दोहरीकरण का शिलान्यास है।

इसके अलावा मोतिहारी से नेपाल के अमलेशगंज तक ऑयल पाइपलाइन प्रोजेक्ट, मोतिहारी में लगने वाले पेट्रोलियम ऑयल ल्यूब और एलपीजी टर्मिनल के साथ ही सुगौली में हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन द्वारा लगाये जाने वाले न्यू एलपीजी प्लांट का शिलान्यास है। प्रधानमंत्री बेतिया में नगर परिषद जलापूर्ति स्कीम का उद्घाटन भी करेंगे। पीएम के कार्यक्रम को लेकर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। कार्यक्रम स्थल को एसपीजी के हवाले कर दिया गया है।

लोको फैक्ट्री का उद्घाटन

देश का पहला विद्युत रेल इंजन कारखाना आज राष्ट्र को समर्पित किया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वीडियो कांफ्रेंसिंग से फैक्ट्री का लोकार्पण करेंगे।जिलेवासियों को उस पल का इंतजार है जब प्रधानमंत्री मधेपुरा विद्युत रेल इंजन फैक्ट्री का लोकार्पण करेंगे। माना जा रहा है कि इस फैक्ट्री के चालू होने से कोसी के इलाके में औद्योगिक विकास की रफ्तार तेज होगी।

दस साल के लंबे इंतजार के बाद विद्युत रेल इंजन कारखाना शुरू होने जा रहा है। जमीन अधिग्रहण को लेकर लगातार उत्पन्न विवादों के बाद भी कारखाना निर्माण में बाधा उत्पन्न नहीं होने देने में जिला प्रशासन की भूमिका महत्वपूर्ण मानी जा रही है। मधेपुरा के श्रीपुर चकला में बने इस कारखाने में पांच लोकोमोटिव इंजन साल 2019 में, 35 इंजन 2020 में और 60 लोकोमोटिव इंजन साल 2021 में बनाये जाएंगे। इसके बाद 800 लोकोमोटिव्स का लक्ष्य पूरा होने तक हर साल 100 लोकोमोटिव इंजन का निर्माण कारखाने में किया जाएगा।

26 हजार करोड़ की इस महत्वपूर्ण परियोजना के तहत 12 हजार हॉर्स पावर वाले लोकोमोटिव इंजन का निर्माण होगा। इस कारखाने से निकलने वाले इंजन 9000 टन वजनी मालगाड़ी को लेकर चलने की क्षमता वाले होंगे। वित्तीय वर्ष 2007-08 में तत्कालीन रेलमंत्री लालू प्रसाद ने मधेपुरा में विद्युत रेल इंजन कारखाना लगाने की घोषणा की थी।

modi-to-flag-off-katihar-new-delhi-express-launch-loco-factory-in-bihar

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here