अभी अभी: उत्तर प्रदेश की राजनीति में आया भूचाल ,बसपा के एक और बड़े नेता ने छोड़ दिया माया का साथ

0
2068

अली युसूफ अली  का बसपा से मोहभंग हो गया है  ।उन्होंने कांग्रेस का हाथ थाम लिया है । आपको बता दें कि अली यूसुफ अली ने वर्ष 2000 में बसपा ज्वाइन की थी। इसके बाद वह चमरौआ से 2002 में चुनाव लड़े। लेकिन, चुनाव हार गए। वर्ष 2007 में हुए विस चुनाव में भी यूसुफ को पराजय का मुंह देखना पड़ा। वर्ष 2012 के विस चुनाव में पड़े कुल 165395 मतों में से 37083 वोट पाकर वह विधायक चुने गए। मंडल में बसपा का उन्हीं ने खाता खोला था। तब आजम खां के खास नसीर अहमद खां 1846 मतों के अंतर से उनसे पराजित हुए थे।

चमरौआ के पूर्व विधाय अली यूसुफ अली ने बताया कि सपा और बसपा दोनों क्षेत्रीय पार्टियां हैं और ये देश का विकास नहीं करा सकतीं। मौजूदा समय में दलित, पिछड़ों, किसानों के दमनकारी भाजपा की नीति का यदि कोई विरोध कर सकता है तो वह कांग्रेस है। भाजपा को उखाड़ फेंकने की सामथ्र्य सिर्फ और सिर्फ कांग्रेस में है, राहुल गांधी में है। इसीलिए राहुल गांधी से मुलाकात के बाद आज मैंने कांग्रेस ज्वाइन कर ली।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here