अभी अभी: 350 साल पहले अपनाया था इस्लाम, जाने अब क्या हुआ

0
121

नई दिल्ली। हरियाणा के हिसार जिले से बड़ा मामला प्रकाश में आया है। लगभग 350 साल पुरानी परंपरा को छोड़कर शव को दफनाने की बजाय जलाकर उसका अंतिम संस्कार किया गया है। आश्चर्य की बात यह है कि परिवार वालों का कहना है कि औरंगजेब की वजह से उनके बुजुर्गों ने इस्लाम धर्म अपनाया था।

दरअसल, यह मामला हरियाणा के हिसार जिले के बिठमड़ा गांव का है, यहां शव को दफनाने वाली 350 साल की परंपरा को छोड़ एक बुजुर्ग महिला फुल्ली देवी की मौत के बाद हिंदू रीति रिवाज से उनके शव को जलाया गया है। इससे पहले यहां तीस परिवार के लोग मरने के बाद शरीर को दफनाया करते थे। इसके साथ ही उन्होंने अब फिर से हिंदू धर्म अपना लिया है।

बुजुर्ग महिला के अंतिम संस्कार के समय गांव के सभी लोग मौजूद थे। लोगों का कहना है कि अतिम संस्कार हिंदू रीति रिवाज के साथ किया गया है. लोगों ने बताया कि बिना किसी दबाव के और अपनी इच्छा से यह अपना रहे हैं. बुजुर्ग महिला के परिजनों सतबीर और मंजीत ने बताया कि पहले शवों को दफनाया जाता था और ये लगभग 350 साल से किया जाता रहा है।

इन लोगों का कहना है कि औरंगजेब के समय से उनके बुजर्गों ने इस्लाम धर्म अपनाया हुआ था. लेकिन अब बिना किसी दबाव में घर वापसी की है। अब उन्होंने दफनाने की परंपरा को भी बदल दिया है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here