बुंदेलखंड होगा रक्षा गलियारे का केंद्र,लखनऊ में डिफेंस पार्क बनेगा

0
164

लखनऊ। डिफेंस कॉरिडोर पर झांसी में हुई पहली बैठक में यह तय हुआ कि लखनऊ को बड़ी जिम्मेदारी दी जाएगी। एयरोस्पेस से जुड़े उद्योग यहां पर लगाए जाएंगे। इनमें विमानों के कलपुजरें से लेकर रडार के उपकरण, सॉफ्टवेयर और मिसाइल समेत अन्य आयुधों के पुर्जें निर्मित होंगे। बैठक में शामिल होने के बाद डीएम कौशल राज शर्मा ने बताया कि शासन के निर्देश प्राथमिकता से पूरे होंगे। फिलहाल लखनऊ और कानपुर को एयरोस्पेस हब बनाने की तैयारी है।

नए उद्यमियों को मौका

यूपी मेंबनने जा रहे रक्षा गलियारे का केंद्र ¨बदु बुन्देलखण्ड होगा। साथ ही झांसी, कानपुर समेत छह जिलों में डिफेंस पार्क बनेंगे। अब 30 फीसदी रक्षा उत्पाद देश में ही तैयार होंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण व औद्योगिक विकास आयुक्त अनूपचन्द्र पाण्डेय ने सोमवार को झांसी में रक्षा उत्पाद से जुड़े उद्यमियों को डिफेंस कॉरिडोर के फायदे गिनाए और हर सुविधा देने का वादा किया। रक्षा मंत्री ने कॉरिडोर के लिए आईआईटी कानपुर समेत निजी संस्थानों की प्रतिभाओं को भी जोड़ने का आह्वान किया।

पिछड़ापन हटेगा: योगी
’युद्धक विमानों के कलपुजरें के उद्योग समूह लगाए जाएंगे। ’छोटे, मझोले और लघु उद्योगों की संख्या अधिक होगी। ’उद्योग लगने के साथ शहर का विकास भी तेजी से होगा। ’अगले 50 वर्षों के दौरान सेना की क्या जरूरत होगी, उसके हिसाब से कलपुर्जें और उपकरण बनाए जाएंगे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here