सर्वे रिपोर्ट: अगर ऐसा हुआ तो मोदी सरकार को चुकानी पड़ेगी कीमत

0
1345

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विकास को मुद्दा बनाया था। देश के युवाओं से वादा किया था कि हर साल एक करोड़ युवाओं को रोजगार देंगे,लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 2019 का चुनाव आने वाला है। इस बार के लोकसभा चुनाव में पार्टियों के पास क्या मुद्दा होगा यह पता नहीं, लेकिन एक सर्वे में जानकारी मिली है कि इस बार जनता का क्या मन है।

सरकारी खर्च अब होगा कम: पांच सितारा होटलों पर भोज पर रोक

आपको बता दें कि न्यूयार्क की एक कंपनी है ब्लूमबर्ग। इसका काम वित्तीय, सॉफ्टवेयर, डेटा और मीडिया कंपनी ​का है। इसने एक रिपोर्ट जारी की है जिसमें बताया है कि इस बार युवा सिर्फ रोजगार चाहते हैं। फिर चाहे मोदी दें या फिर राहुल। सर्वे के मुताबिक रोजगार देने में मोदी सरकार को फेल मानने वाले लोगों की संख्या जनवरी 2018 में बढ़कर 29% हो गई। पहले यह संख्या 22% थी। आपको बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव में 13 करोड़ युवा पहली बार मतदान करेंगे।

कितने अमीर हैं PM मोदी, जानें पीएम बनने के बाद कितनी बढ़ गई सम्पत्ति

आज भी सबसे ज्यादा लोकप्रिय हैं मोदी
लोकसभा चुनाव में अगर रोजगार मुद्दा बना तो मोदी सरकार को भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है। साल 2016 में एक सर्वे हुआ जिसमें निकल कर आया कि देश के युवाओं की प्रमुख समस्या बेरोजगारी है। आकड़ों के मुताबिक 18% लोग नौकरी और बेरोजगारी को 12% आर्थिक असामनता और नौ फीसदी भ्रष्टाचार को भारत में सबसे अहम समस्या मानते हैं। अगस्त में बेरोजगारी दर 6.32% थी जो कि पिछले एक साल में सबसे ज्यादा है।

पूरी कहानी: क्या है भीम आर्मी , कहां से आया है ये रावण

rahul gandhi

अगर आपको यह अार्टिकल पसंद आया है तो कृपया http://bhasmasur.com पर जाएं और हमें अपनी प्रतिक्रिया दें। अगर आप हमारी वेबसाइट पर आर्टिकल लिखने के इच्छुक हैं तो bhasmasur11@gmail.com पर संपर्क करें।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here