भाजपा के चार विधायक हुए बागी, राज्यसभा चुनाव में बसपा को देंगे वोट

0
8174

लखनऊ: राज्यसभा की एक सीट को अपने खाते में शामिल करने के लिए सभी पार्टियां जोड़ तोड़ कर रही हैं। ऐसे में भाजपा खेमे में बगावत से नौवीं सीट जीतने के मंसूबों पर पानी फिरने की आशंका है। ताजा मामला भाजपा के चार विधायकों का है। जिन्होंने बसपा के उम्मीदवार के हित में मतदान करने का इरादा किया है। इस खबर ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह तक को बेचैन कर दिया है।

ऐसे में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अधयक्ष महेन्द्रनाथ पाण्डेय को बागी विधायकों को समझाने के लिए कहा है, साथ ही पूरे मामले की रिपोर्ट भी मांगी है। विधायकों की शिकायत है कि सरकार बने एक साल हो गए, पर उन्हें भाव ही नहीं मिलता है। इसलिए राज्यसभा चुनाव में उन्होंने बसपा के हित में मतदान करने का मन बनाया है।

सपा से नितिन अग्रवाल और नरेश अग्रवाल की बगावत के बाद बसपा के उम्मीदवार भीमराव अंबेडकर की जीत मुश्किल नजर आ रही है। ऐसे में बसपा के नेता तमाम विधायकों को भाव देने के लिए तैयार हैं, जो उन्हें मतदान करने का इच्छुक है।

पूर्वांचल से तालुख रखते हैं चारों विधायक

भाजपा गठबंधन आठ सीट जितने के बाद अब राज्यसभा की नौवीं सीट जीतना मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। आठ सीट पक्के तौर पर जीतने के बाद पार्टी के शेष 15 विधायकों के साथ सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के चार विधायकों और अपना दल (सोनेलाल) के नौ विधायक यानी 28 विधायकों के जरिए नौवीं सीट भी जीतने की कोशिश में लगी है। अपने 28 विधयकों के साथ पार्टी ने अनिल अग्रवाल को समर्थन देकर चुनाव मैदान में उतारा है। पर मुश्किल यह हुई है कि कुशीनगर के रामकोला सीट से विधायक रामानंद बौद्ध और वाराणसी की अजगरा सीट से निर्वाचित कैलाशनाथ सोनकर तथा गाजीपुर की जहूराबाद सीट से विधायक ओमप्रकाश राजभर के साथ-साथ गाजीपुर की जखनियां सीट से विधायक त्रिवेणी राम ने बगावत का झंडा थामा है। चारों विधायकों ने तवज्जो नहीं मिलने से राज्यसभा चुनाव में भाजपा समर्थित उम्मीदवार को वोट ना देने का फैसला कर लिया है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here