BJP की भ्रष्टाचार पर ज़ीरो टॉलरेंस नीति पर कुठाराघात और स्वयंसेवक के उत्पीड़न की व्यथा

0
111

भारतीय जनता पार्टी की सरकार भ्रष्टाचार पर ज़ीरो टॉलरेन्स नीति के तहत कार्य कर रही है, लोकप्रिय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी लगातार अपराधियों, माफियाओं और भ्रष्टाचारियों पर कमान कस रहे है लेकिन बिडम्बना यह है कि उत्तर प्रदेश लोक निर्माण विभाग के चंद लोग लगातार भ्रष्टाचारियों और माफियाओं को संरक्षण देकर माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी और विश्व नायक माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के भ्रष्टाचार मुक्त भारत अभियान को कुठाराघात करने का दूषित कार्य कर यह है।

समाजवादी पार्टी की सरकार में राज्य राजमार्ग 33 बरेली बदायूँ फोर लेन सड़क निर्माण में हुए लगभग 281 करोड़ के बंदरबांट की जाँच हेतु गौरव गुप्ता ने शिकायत की तो घोटालेबाजों ने साक्ष्यों को छीनने और हत्या करने का प्रयास किया, 07 झूठी कहानी गढ़ अपराधिक मुकदमों में फ़साया गया जिसमें निष्पक्ष जाँच हेतु जिला स्तर से लेकर महामहिम राष्ट्रपति तक गुहार लगायी गयी जो जिसकी संख्या एक विश्व रिकॉर्ड बनने की ओर अग्रसर है।

उत्तर प्रदेश शासन द्वारा 15 दिन में नियमानुसार जाँच और कानूनी कार्यवाही का शपथपत्र के आधार पर माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद ने याचिका संख्या 8888/2019 दिनाँक 23 अप्रेल 2019 को कार्यवाही हेतु आदेश दिया। माननीय उच्च न्यायालय के आदेश की अवमानना याचिका 4950/2019 दिनाँक 06 अगस्त 2019 यथाशीघ्र जाँच पूरी करने के आदेश दिए गए।

दिनाँक 19 नवंबर 2019 को माननीय मुख्यमंत्री सचिवालय (IGRS 15153190122580) ने जाँच के आदेश दिए।महामहिम राष्ट्रपति सचिवालय के दखल के बाद श्रीमान प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग ने दिनाँक 16 जून 2020 को एक बैठक में दिनाँक 30 जून 2020 तक जाँच पूरी करने के आदेश प्राविधिक सम्परिक्षा कोष्ठ, लोक निर्माण विभाग को दिए है।

प्राविधिक सम्परिक्षा कोष्ठ लोक निर्माण विभाग को सड़क निर्माण में हुए अनियमितताओं की जांच के लिए देश की सभी संवैधानिक संस्थाओं को आदेश जारी करने पड़े, दखल देना पड़े और जाँच फिर भी लंबित रहे। इससे बड़ा दुर्भाग्य इस देश का नही हो सकता।विट्यूमिन पदार्थ और खनिज पदार्थों (ग्रिट, डस्ट आदि) की CRC और रॉयल्टी पत्र और अन्य जरूरी प्रपत्रों की जांच इसी तरह लंबित रहेगी, संवैधानिक संस्थाओ के आदेश की अवहेलना की जाएगी, शिकायतकर्ताओं को प्रताड़ित किया जाता रहेगा, हो सकता है उसकी हत्या भी कर दी जाए।

व्यवस्था में चंद लालची लोगो के कुकृत्यों के कारण कानपुर के विकास दुबे जैसे अपराधियों, माफियाओं और भ्रष्टाचारियों को पनपने का मौका मिलता है। जो फिर व्यवस्था के लिए नासूर बन जाते है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here