मोदी सरकार ने रूस के प्रस्ताव को किया खारिज, अडानी ग्रुप के साथ करना चाहता था ये काम

0
661

मोदी सरकार ने रूस के उस प्रस्ताव को खारिज कर दिया है, जिसमें उसने अडानी ग्रुप के साथ मिलकर भारत में एके-सीरीज की आधुनिक असॉल्ट राइफलें बनाने की पेशकश की थी। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की रूस यात्रा होनी है। इस यात्रा में क्लाशनिकोव-103 असॉल्ट राइफलों के भारत में उत्पादन को लेकर दोनों देशों के बीच करार को लेकर वार्ता हो सकती है।

रूस ने प्रस्ताव दिया था कि वह भारत में अपनी इस असॉल्ट राइफल के संयुक्त उत्पादन के लिए निजी क्षेत्र की कंपनी अडानी के साथ साझेदारी करना चाहता है लेकिन भारत ने इस प्रस्ताव से इनकार कर दिया. नियमों के मुताबिक दो सरकारों के बीच हुए समझौते में कोई भी पक्ष अपने लिए निजी क्षेत्र के सहयोगी का नाम नहीं सुझा सकता.

इन राइफलों के संयुक्त उत्पादन के लिए रूस की ओर से साझेदार वही कंपनी होगी, जो एके-47 सीरीज की राइफलें बनाती है. साझेदार कंपनी चुनने में छूट न मिलने के बाद देश की ऑर्डिनेंस फैक्टरी को संभवतः प्रोडक्शन एजेंसी बनाया जा सकता है.

रक्षा मंत्रालय की असल योजना के मुताबिक, ऑर्डिनेंस फैक्टरी को इस प्रोजेक्ट में प्रोडक्शन एजेंसी बनाया जा सकता है. एके-103 राइफलें एक-47 असॉल्ट राइफलों का आधुनिक वर्जन हैं. यह पूरी दुनिया में काफी पसंद की जाती है. एके-47 राइफलों को उत्पादन दूसरे विश्व युद्ध के खत्म होने के बाद शुरू हुआ था.

हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए लिंक पर क्लिक करें।

https://www.youtube.com/channel/UCGMC4bKHWiQa4VH8bGctbcQ?view_as=subscriber

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here