अबकी गड़तंत्र दिवस ASEAN नेता भारत में

0
125

नई दिल्ली (संकल्प सिंह): आसियान के दस सदस्य देशों के साथ समुद्री सुरक्षा और सहयोग पर वीरवार को शिखर बैठक के दौरान अहम बातचीत होगी। दक्षिण चीन सागर में चीन द्वारा अंतरराष्ट्रीय समुद्री कानूनों के उल्लंघन और अपना समुद्री विस्तार करते जाने के मद्देनजर इस मसले पर भारत आसियान के बीच बातचीत काफी अहम होगी। उम्मीद है कि इस मसले का जिक्र दोनों पक्षों द्वारा जारी किये जाने वाले साझा घोषणा पत्र में होगी।

इस बैठक पर चीन रखेगा कड़ी  नजर 
उल्लेखनीय है कि समुद्री सुरक्षा के मसले पर भारत आसियान देशों के साथ सहयोग निरंतर बढ़ा कर रहा है। इस इरादे से सदस्य देशों के साथ भारत रक्षा और नौसैनिक सहयोग भी गहरा कर रहा है जिस पर चीन की नजर है। समुद्री सुरक्षा मसले पर दसों राष्ट्रप्रमुखों के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राष्ट्रपति भवन में हो रहे रिट्रीट के दौरान चर्चा करेंगे। चीन ने दक्षिण चीन सागर के बड़े इलाके पर अपना दावा किया है जिसके मद्देनजर भारत ने बार-बार कहा है कि अंतरराष्ट्रीय समुद्री इलाके में आवाजाही की पूरी आजादी होनी चाहिये। उल्लेखनीय है कि दक्षिण चीन सागर के इलाके पर अधिकार  को लेकर आसियान के सदस्य देशों और चीन के बीच विवाद चल रहा है।

मेहमान नेताओं से हुई आपसी रिश्तों पर बातचीत
वीरवार को हो रही ऐतिहासिक शिखर बैठक के लिये राष्ट्रप्रमुखों के बुधवार से भारत आगमन के साथ ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मेहमान नेताओं के साथ आपसी मसलों पर भी बातें की। प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को सबसे पहले म्यांमार की स्टेट काउंसेलर आंग सान सू ची से करीब एक घंटे तक आपसी रिश्तों के बारे में बातचीत की।

रोहिंग्या शरणार्थियों का भी उठा  मुद्दा
यहां राजनयिक सूत्रों ने कहा कि इस बातचीत के दौरान खासकर रोहिंग्या शरणार्थियों के पुनर्वास के बारे में बातचीत हुई। उल्लेखनीय है कि बांग्लादेश में पलायन कर गए रोहिंग्या शरणार्थियों की वापसी के समझौते के साथ ही भारत ने म्यांमार के रखाईन शहर में 50 हजार घर बनाने का ऐलान किया है। इसके अलावा भी स्वदेश लौट रहे शरणार्थियों के पुनर्वास में म्यांमार सरकार को अतिरिक्त मदद का वादा भी भारत ने किया है।

फिलीपींस के राष्ट्रपति से हुई खास बातचीत
प्रधानमंत्री मोदी ने रात को वियतनाम के प्रधानमंत्री एंगुयेन श्वान फुक से 45 मिनट की बातचीत में आपसी रिश्तों की समीक्षा की। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी फिलीपींस के राष्ट्रपति रोद्रिगो दुतर्ते से रात नौ बजे मिले। हाल में फिलीपींस से किसी राष्ट्रप्रमुख का यह पहला भारत दौरा है। पिछले नवम्बर महीना में ही मनीला में आसियान शिखर बैठक में भाग लेने के लिये प्रधानमंत्री मोदी फिलीपींस गए थे औऱ वहां राष्ट्रपति दुतर्ते को भारत आने का निमंत्रण व्यक्तिगत तौर पर सौंपा था। वीरवार को शिखर बैठक के पहले प्रधानमंत्री मोदी थाईलैंड के प्रधानमंत्री प्रयुत चान ओ चा से मिलेंगे। इसके बाद सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली श्येन लुंग से उनकी दिवपक्षीय मुलाकात होगी। 11 बजे वह ब्रुनेई के सुलतान हसन बोलकिया से मिलेंगे।

कोविंद राष्ट्र प्रमुखों को देंगे राजकीय भोज
वीरवार को दोपहर 12 बजे से भारत आसियान शिखर बैठक राष्ट्रपति भवन में शुरू होगी जहां राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राष्ट्र प्रमुखों और उनकी पत्नियों को राजकीय भोज देंगे। राष्ट्रपति भवन में ही प्रधानमंत्री मोदी सभी राष्ट्र प्रमुखों के साथ एक रिट्रीट आयोजित करेंगे जिसमें समुद्री सुरक्षा और सहयोग के मसले पर गहन बातचीत होगी। सभी राष्ट्रप्रमुख मुगल गार्डन में टहलेंगे और उनका एक  ग्रुप फोटो वहीं होगा। वीरवार शाम को ताज होटल मे भारत आसियान शिखर बैठक का अधिवेशन होगा जहां सभी नेता सांझा मूल्य और सांझा भविष्य पर अपने बयान देंगे।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here