2019 में बीजेपी पर भारी पड़ेगा विपक्ष, तीसरी बार दी पटकनी

0
90

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के लिए 2019 के चुनाव से पहले खतरे की घंटी बज चुकी है। विपक्षी याराना ने बीजेपी की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। यूपी में एक बार फिर विपक्ष बीजेपी पर भारी पड़ा। कैराना लोकसभा सीट के साथ ही नूरपुर विधानसभा सीट पर भी विपक्ष ने कब्जा जमा लिया है।

फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा सीट के बाद इस साल यूपी में यह तीसरा झटका बीजेपी को मिला है। 28 मई को हुए चुनावों में भाजपा तीन राज्यों की 4 लोकसभा सीटों में से सिर्फ एक और नौ राज्यों की 10 विधानसभा सीटों में सिर्फ एक पर जीत दर्ज कर पाई थी।

आपको बता दें कि कैराना में रालोद की तबस्सुम हसन ने भाजपा की मृगांका सिंह को 44,618 वोटों से हरा दिया, वहीं नूरपुर में सपा प्रत्याशी नईमुल हसन ने भाजपा की अवनी सिंह को 5662 मतों से चित कर दिया।

क्यों गई कैराना सीट
मुजफ्फरनगर दंगे के बाद टूट चुके जाट—मुस्लिमों को मनाने में रालोद सुप्रीमो चौधरी अजित सिंह कामयाब रहे। कैराना उपचुनाव में जाट बाहुल गांवों के आलावा दंगा प्रभावित गांवों के जाटों ने भी रालोद को बीजेपी से ज्यादा वोट दिया। जबकि रालोद ने तबस्सुम को टिकट दिया था इसलिए बीजेपी नेता बहुत खुश थे और उन्होंने मुजफ्फरनगर दंगे के जख्मों को याद दिलाने की कोशिश की। तबस्सुम के बेटे नाहिद हसन के बयानों को याद दिलाया, लेकिन अजित और जयंत चौधरी की सधी चाल के आगे उनकी एक न चली।

चुनाव परिणाम के बाद क्या बोले नेता
गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने क्या कहा
गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि लंबी झलांग लगाने के लिए दो कदम पीछे हटना जरूरी है। हम निश्चित तौर पर भविष्य में लंबी झलांग लगाएंगे।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने क्या कहा
यह बीजेपी के अहंकार की हार है। मंहगाई बढ़ रही है। जनता ने सरकार के खिलाफ मतदान किया।

रालोद अध्यक्ष अजित सिंह
भाजपा ने किसानोें को छला है। आपसी भाईचारे को खत्म किया है। जनता अब इनकी हकीकत को जान चुकी है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी
हार जीत से सभी सबक लें। मैं मेहनत व समर्पण के लिए कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आभारा जताता हूं।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here