मेला धनुष यज्ञ कुम्हरावां: स्वर्ग की समस्या का मंचन एक दिसंबर को

0
239
suyash mishra
Suyash Mishra

लखनऊ। धरती पर भ्रष्टाचार तो आपने जगह जगह देखा होगा। अगर यह भ्रष्टाचार स्वर्ग तक पहुंच जाए तो शायद आपको आश्चर्य होगा। आप सोचिए कि अगर धरती की यह समस्या जब स्वर्ग की समस्या बन जाएगी तो फिर क्या होगा। अगर यह जानना है तो 1 दिसंबर को कुम्हरावां पहुंचे।

सांस्कृतिक विरासत को सहेजे ‘मेला धनुष यज्ञ’ कुम्हरावां अपना 128वां आयोजन मना रहा है। बदलते समाजिक परिदृश्य में इंसानी मूल्य इतने कमजोर हो जाएंगे यह पता नहीं था। नवोदित लेखक सुयश मिश्रा (भोलू) के निर्देशन में समाज में व्याप्त भ्रष्टाचार को केंद्रित करते हुए ‘स्वर्ग की समस्या’ नाटक का मंचन रात्रि 10 बजे से किया जाएगा।

इस नाटक को अवधेष मिश्रा, आकाश मिश्रा, शुशांत मिश्र के सहयोग से नवोदित लेखक सुयश मिश्रा द्वारा लिखा गया है। यह नाटक पूर्णंतय: हास्य है। इसमें स्वर्ग की प्रमुख समस्या को उठाया गया है। जो सीधे तौर पर धरती से जुड़ी है। नाटक में विशेष रूप में अवधी भाषा का प्रयोग किया गया है।

मेले में काय्रक्रम
बुधवार 29 नवंबर को रात्रि 7 बजे से आकाशवाणी, प्रथ्वी पुकार के बाद सुंदर कांड के पाठ का आयोजन। रात्रि 10 बजे से ‘हनुमत मिलन’ द्वारा भजन संध्या।

गुरुवार 30 नवंबर को सुबह 10 बजे से नगर दर्शन का कार्यक्रम। शाम 6 बजे से कचपुतली और जादू का कार्यक्रम। रात्रि 10 बजे से नाटक ‘श्रीमती की जरूरत’ का मंचन किया जाएगा।

शुक्रवार 1 दिसंबर को दोपहर 2 बजे से धनुष यज्ञ। शाम 6 बजे से पुरस्कार वितरण, सम्मान समारोह, रात्रि 7 बजे से जादू का कार्यक्रम और कचपुतली। रात्रि 10 बजे से सुयश मिश्रा (भोलू) के निर्देशन में नाटक स्वर्ग की समस्या का मंचन किया जाएगा।

 

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here