यूपी बोर्ड ने पहली बार रखी ये शर्त, 9 नवंबर को जारी होगी लिस्ट

0
714

लखनऊ। यूपी बोर्ड से मान्यता प्राप्त प्रदेशभर के जिन स्कूलों के ऊपर से हाईटेंशन तार गुजरते हैं वो इस बार हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा के लिए केंद्र नहीं बनाए जाएंगे। इनमें प्रयागराज के 7 वित्तविहीन स्कूल भी शामिल हैं। 15 जुलाई को बलरामपुर के उतरौला में विष्णुपुर परिषदीय प्राइमरी स्कूल में 11 हजार केवि की हाईटेंशन लाइन गिरने के कारण 55 छात्रों के घायल होने की घटना को गंभीरता से लेते हुए, यूपी बोर्ड ने पहली बार केंद्र निर्धारण में यह शर्त लागू की है। बोर्ड की ओर से निर्धारित गाइडलाइन के अनुसार केंद्रों का परीक्षण करते समय परीक्षा केंद्र निर्धारण समिति कुछ खास बातों का ख्याल रखेगी। जिन स्कूलों के ऊपर से कोई हाईटेंशन बिजली का तार गुजरा हो या स्कूल के बीच से कोई सड़क और संपर्क मार्ग बना हो तथा स्कूल दो भागों में बंटा हो तो उन्हें असुरक्षित एवं पर्यवेक्षण के दृष्टिगत केंद्र न बनाया जाए। इस बीच यूपी बोर्ड ने परीक्षा केंद्रों को अंतिम रूप देने की तैयारी शुरू कर दी है।

समाज कल्याण विभाग की ओर से संचालित राजकीय आश्रम पद्धति के आवासीय स्कूलों को केंद्र नहीं बनाया जाएगा। राजकीय स्कूलों को छोड़कर किसी अन्य स्कूल परिसर में यदि प्रबंधक/प्रधानाचार्य का आवास निर्मित हो, वह वर्ष 2020 के लिए परीक्षा केंद्र नहीं बनेंगे

ऑनलाइन केंद्रों की लिस्ट 9 नवंबर को होगी जारी
9 नवंबर को ऑनलाइन केंद्रों की लिस्ट वेबसाइट पर जारी कर दी जाएगी। जिला विद्यालय निरीक्षक आरएन विश्वकर्मा ने बताया कि जिले में सात वित्तविहीन स्कूल ऐसे हैं जिनके ऊपर से हाईटेंशन तार गुजर रहे हैं और जो सेंटर बनने लायक नहीं हैं। इसकी रिपोर्ट यूपी बोर्ड को भेज दी है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here