मुस्लिमों का मंदिर निर्माण में उमड़ते प्रेम पर साध्वी प्राची का व्यंग

0
671

लंबी लड़ाई, तमाम कोशिशों और बलिदान के बाद राम भक्तों का सपना आखिरकार पूरा होने जा रहा है। आगामी 5 अगस्त के दिन खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंदिर की आधारशिला रखेंगे। ऐसे में तमाम मुस्लिम आपसी भाईचारा का हवाला देते हुए इस कार्यक्रम का हिस्सा बनना चाहते हैं।

मुस्लिम राम भक्त नहीं हो सकता!
इसको लेकर विश्व हिंदू परिषद की फायरब्रांड नेता साध्वी प्राची ने दो टूक कहा है कि अगर कोई रामभक्त है तो वो मुस्लिम नहीं हो सकता और कोई मुस्लिम है तो वो रामभक्त नहीं हो सकता ये दोनों बातें एक व्यक्ति में नहीं घट सकतीं …घटती हैं तो ये उसका एजेंडा मात्र है।

फालतू का दिखावा बंद होना चाहिए
डॉ. साध्वी प्राची ने कहा कि हमने सुप्रीम कोर्ट से मंदिर निर्माण का हक जीता है। अगर हिन्दू मुस्लिम एकता नाम की कोई चीज थी तो इतने सालों तक हमें अपने भगवान के मंदिर निर्माण के लिए लड़ना न पड़ता। राम मंदिर मुस्लिमों की दरियादिली पर नहीं बन रहा इसलिए फालतू का दिखावा बंद होना चाहिए। साध्वी ने कहा कि अगर सच में भाईचारा बढ़ाना चाहते हो तो काशी और मथुरा से अपना अवैध कब्जा तुरंत छोड़ो। सेकुलरिज्म का कीड़ा दिमाक से पूरी तरीक़े से निकालने की जरूरत है सैकड़ों वीरों ने बलिदान दिया है जन्मभूमि के लिये।

सनातन से प्यार तो करो घर वापसी
साध्वी ने कहा कि ‘ला इलाहा इल्लल्लाह मुहम्मदुन रसूलुल्लाह’ जो इसको मानता है वो रामभक्त हो ही नहीं सकता। उन्होंने कहा कि खण्डित चावल, खण्डित नारियल और खण्डित इंसान से पूजा नहीं करवाई जाती। इसलिए जिसे भी सनातन धर्म से लगाव है वो घर वापसी करे। एक मुसलमान के हाथों राममंदिर में कोई भी कार्य स्वीकार्य नही है। साध्वी ने कहा कि भगवान राम को इमाम ए हिन्द कहना बंद करो।

फैज को साध्वी की सलाह

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में स्थित माता कौशल्या के मंदिर से मिट्टी लेकर अयोध्या पहुंचने वाले मोहम्मद फैज को साध्वी ने सलाह दी है कि मंदिर निर्माण में भगवान राम के ननिहाल की मिट्टी को फैज खान अयोध्या न लाकर काशी मथुरा ले जाएं।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here