महाराष्ट्र में 1999 और 2004 में भी बने थे ऐसे हालात, आप भी जान लें तब क्या हुआ था

0
619

मुंबई। महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना के बीच 50—50 के फॉर्मूले को लेकर बना विवाद खत्म नहीं हो रहा है। 9 नवंबर को फणनवीस सरकार का कार्यकाल खत्म हो रहा है। ऐसे मौके पर अगर सरकार नहीं बनी तो गर्वनर पक्ष और विपक्ष को बुलाकर सरकार बना पाने को लेकर पूछताछ करेंगे। ऐसी स्थिति साल 1999 और 2004 में भी पैदा हो गई थी। जब एक पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला था।

आखिर क्या हुआ था 1999 में ?

साल 1999 में एनसीपी का नया नया गठन हुआ था। उस साल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और एनसीपी ने अलग अलग लड़ा था। राज्य में उस वक्त शिवसेना-बीजेपी गठबंधन की सरकार थी। चुनाव में दोनों दलों को पूर्णं बहुमत नहीं मिला। 7 अक्टूबर 1999 को नतीजे आए. कांग्रेस 75 सीट के साथ सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी. एनसीपी को 58 सीट मिली।

इस वीडियो को देखकर हंसते हंसते पेट फूल जाएगा

शिवसेना-बीजेपी गठबंधन को तब मिलाकर 125 सीट (शिवसेना 69, बीजेपी 56) पर कामयाबी मिली. तत्कालीन राज्यपाल पीसी अलेक्जेंडर ने पहले शिवसेना-बीजेपी गठबंधन को बुला कर पूछा कि क्या वो सरकार बनाने की स्थिति में है. इस गठबंधन के पास बहुमत नहीं था. उधर कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बनाने के लिए बात शुरू हो गई. 18 अक्टूबर 1999 को कांग्रेस के विलासराव देशमुख ने एऩसीपी और कुछ निर्दलीय विधायकों का समर्थन मिलने के बाद मुख्यमंत्री के नाते शपथ ली. उस वक्त नतीजे आने के बाद सरकार बनने में कुल 11 दिन लग गए.

आखिर 2004 में क्या हुआ था?

2004 में भी 2019 की तरह दो गठबंधनों में मुकाबला हुआ था. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे 16 अक्टूबर 2004 को आए. कांग्रेस और एनसीपी को मिलाकर 140 सीट मिलीं. इस गठबंधन को कुछ निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन हासिल था. लेकिन तब एक पेंच सामने आया. वो था एनसीपी को 71 और कांग्रेस को 69 सीट पर जीत हासिल हुई थी.

ऐसे में एनसीपी को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर अपनी दावेदारी ठोकने का मौका मिल गया. एनसीपी को ज्यादा सीट मिली थी और गठबंधन में ये सहमति भी थी कि जिस पार्टी को ज्यादा सीट मिलेंगी उसी का मुख्यमंत्री होगा. उस वक्त भी निवर्तमान विधानसभा को भंग करने की तारीख 19 अक्टूबर 2004 तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंचा जा सका था. तब चुनाव नतीजे आने के 16 दिन बाद जाकर एनसीपी और कांग्रेस में समझौता हुआ.

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here