नगर निगम: जोन 8 कार्यालय का घेराव, जलभराव से फूटा लोगों का गुस्सा

0
440

(किसी भी प्रकार के भ्रष्टाचार की जानकारी अगर आपके पास है तो 7007096037 पर संपर्क करें। आपका नाम और पता गोपनीय रखा जाएगा)

Lucknow. नगर निगम में नाला सफाई को लेकर नगर आयुक्त के आदेशों का भी अधिकारियों पर असर नहीं दिख रहा। नगर आयुक्त इंद्रमणि त्रिपाठी ने बरसात से पहले शहर में नाला सफाई के आदेश दिए थे। नाला सफाई के मामले में जोन 8 की पोल बारिश की पहली खेप में ही खुल गई थी। सोमवार को जोरदार बारिश ने एक बार फिर जोन 8 में नाला सफाई की पोल खोलकर रख दी।

वार्ड में नाला सफाई के नाम पर कमाई की खबरें आर्य टीवी ने पहले ही चलाईं थी। हालांकि नगर आयुक्त ने भी इस पर अभी तक संज्ञान नहीं लिया है। रही बात नाला सफाई की तो इसका अंदाजा सोमवार को बारिश के बाद नदियां बनी सड़कों से लगाया जा सकता है।

जोन 8 में नाला सफाई नहीं
जोन 8 में बारिश से पहले नाला सफाई में लापरवाही का खमियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है। साउथ सिटी स्थित एल्डिको उद्यान में सोमवार को जलभराव की समस्या ने लोगों का धैर्य तोड़ दिया। नाराज लोगों ने पहले इब्राहिमपुर द्वितीय वॉर्ड के पार्षद रमेश रावत काकू को फोन कर बुलाया और फिर बंधक बना लिया। इसके बाद नाराज लोगों ने जोन 8 के कार्यालय का भी घेराव किया।

फूटा जनता का गुस्सा

दरअसल इस पूरे इलाके में जल निकासी की व्यवस्था बदहाल है। बारिश में सड़कों पर जलभराव होने लगता है जो कि घरों तक पहुंच जाता है। सीवर लाइन चोक होने से गंदा पानी घरों में प्रवेश हो जाता है। पिछले दो दिनों से बारिश के कारण स्थिति बद से बदतर हो गई है। इसके बावजूद न तो पार्षद ने ध्यान दिया और न ही जोन 8 के किसी भी अधिकारी या कर्मचारी ने। लिहाजा सोमवार को आम जनता का गुस्सा फूट पड़ा।

नाला सफाई के नाम पर वसूली!
जोन—8 के नगर अभियंता अमरनाथ और पूर्व एई पीके श्रीवास्तव पर नाला सफाई के नाम पर पैसे कमाने का आरोप लग चुका है। स्थानीय लोगों के मुताबिक जिन लोगों ने 30,000 रूपये दे दिये उनके सामने का नाला वैसे ही छोड़ दिया गया था और जिन लोगोें ने पैसे नहीं दिये थे उनके सामने का नाला तोड़ दिया गया था, जो अभी तक जोड़ा नहीं जा सका।

कई व्यवसायियों ने आर्यटीवी से बातचीत के दौरान बताया कि जेई अभिषेक गुप्ता द्वारा 10 से 30 हजार रूपए के बीच अवैध वसूली की गई है। हालांकि इस मामले में किसी ने शिकायत करने से यह कहते हुए इनकार कर दिया था कि हमें अभी और व्यवसाय करना है। इन लोगोंं के खिलाफ जाएंगे तो आएदिन कुछ न कुछ नियम बताकर परेशान करेंगे। फिर बिजनेश करना मुश्किल हो जाएगा।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here