जानें 28 साल तक क्यों मिलती रही गांधी परिवार को एसपीजी सुरक्षा

0
669

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के पूरे परिवार से एसपीजी की सुरक्षा हटाए जाने के बाद बवाल शुरू हो गया है। बीजेपी कांग्रेस के निशाने पर आ गई है। कांग्रेस के कई नेता लगातार प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं वहीं राहुल गांधी ने भी ट्वीट किया है। कांग्रेस ने प्रेस कॉफ्रेंस करके विरोध जताया है। उन्होंने एसपीजी सुरक्षा बहाल करने की मांग की।

आपको बता दें कि केंद्र सरकार की ओर से अब गांधी परिवार को पूरे भारत में सीआरपीएफ की ‘जेड प्लस’ सुरक्षा दी जाएगी। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के परिवार को दी गयी एसपीजी सुरक्षा वापस लेने का फैसला एक विस्तृत सुरक्षा आकलन के बाद लिया गया। लिट्टे के आतंकवादियों ने 21 मई 1991 को राजीव गांधी की हत्या कर दी थी। गांधी परिवार 28 साल बाद बिना एसजीपी सुरक्षा के रहेगा। उन्हें सितंबर 1991 में 1988 के एसजीपी कानून के संशोधन के बाद वीवीआईपी सुरक्षा सूची में शामिल किया गया था। गौरतलब है कि अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इकलौते शख्स होंगे जिन्हें एसपीजी सुरक्षा मिलती रहेगी।

क्या कहा राहुल गांधी ने

‘सालों तक मेरे और मेरे परिवार कि बिना थके रक्षा करने के लिए एसपीजी के मेरे भाई बहनों का धन्यवाद। प्रेम और सीख से भरे आपके समर्पण और समर्थन के लिए धन्यवाद। आपके शानदार भविष्य के लिए शुभकामनाएं।’

क्या कहा कांग्रेसी नेताओं ने
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने इसे ओछी राजनीति बताया। गहलोत ने कहा कि यह जो इस तरह की राजनीति कर रहे हैं, इस उनके मानसिक दिवालियापन का संकेत है। प्रधानमंत्री जी को चाहिए वह हस्तक्षेप करें।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here