चमकी बुखार से अब तक मर चुके हैं 108 बच्चे, जान लें लक्षण और उपाय

0
2793

बिहार में इन दिनों चमकी बुखार बच्चों पर मौत बनकर टूटा है। अब तक 100 से ज्यादा बच्चों की मौत इससे हो चुकी है। लोगों का यह भ्रम भी टूट गया है कि यह बुखार लीची खाने से फैला है, क्योंकि ऐसे कई मामले आए हैं जहां बिना लीची खाए बच्चे भी चमकी से पीड़ित पाए गए।

चमकी बुखार का अभी तक कोई सटीक इलाज नहीं आ सका है और न ही इसके लिए कोई वैक्सीन बनी है। अब बारिश ही सहारा है, क्योंकि बारिश ठंडक होगी और लू भी नहीं चलेगी जिससे इस बीमारी का प्रकोप कम होगा।

हरकत में आई नीतीश सरकार
सोमवार को बिहार के मुख्यमंत्री नतीश कुमार ने उच्चस्तरीय बैठक बुलाई थी। इसके बाद निर्णय लिया गया है कि टीम हर उस घर में जाएगी, जिस घर के बच्चे की मौत हुई है और जानने की कोशिश करेगी कि उसका बैकग्राउंड क्या है, क्योंकि सरकार अब तक यह पता नहीं कर पाई है कि चमकी बुखार की वजह क्या है। नीतीश सरकार पीड़ितों के लिए एंबुलेंस मुहैया कराने के साथ साथ पूरे इलाज का खर्च भी उठाएगी और मृतकों के परिवार को मुआवजे के तौर पर 4 लाख रुपए देगी।

चमकी बुखार को लेकर 16 जून को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, हालांकि इस दौरान बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय पत्रकारों से भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच का स्कोर पूछते दिखाई दिए। आप इस पर क्या कहेंगे।

क्या हैं इस बुखार के लक्षण
दोनों जबड़े को दबाए रहना।
कमजोरी के चलते बार बार बेहोश हो जाना।
शरीर के किसी भी अंग को दबाने के बाद भी कोई गतिविध न होना।
बच्चे को लगातार तेज बुखार होगा।
किसी भी अंग विशेष में ऐठन होना व झटके लगना।
पूरे शरीर में दर्द व सुस्ती लगना।


उपाय व सावधानियां
बच्चों को तेज धूप से दूर रखें।
दिन में दो बार बच्चों को स्नान कराएं।
बच्चों को हमेशा साफ सुथरा रखें।
बच्चों के शरीर में पानी की कमी न हो इसके लिए नींबू पानी और चीनी या फिर ओआरएस का घोल समय समय पर देते रहें।
चमकी बुखार का कोई भी लक्षण अगर बच्चे में दिखे तो तुरंत हॉस्पिटल ले जाएं।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here