आखिर क्यों तिलमिला उठीं महबूबा, बीजेपी ने ऐसा क्या किया?

0
270

जम्मू और कश्मीर बीजेपी से गठबंधन कर तीन सालोें तक राज करने वाली पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती शुक्रवार को अचानक केंद्र सरकार पर आग बबूला हो गई हैं। महबूबा ने मोदी सरकार को धमकी देते हुए कहा है कि राज्य में बीजेपी ने अगर पीडीपी को तोड़ने की कोशिश की तो कश्मीर के हालात और खराब होंगे। कई और सलाउद्दीन पैदा होंगे। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि कश्मीर के हालात 90 के दशक जैसे हो जाएंगे।

और क्या कहा

महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर में 1987 में चुनाव के साथ गड़बड़ हुई तो यासिन मलिक और हिजबुल मुजाहिदीन के प्रमुख सैय्यद सलाउद्दीन पैदा हुए थे। इसके बाद क्या हुआ सभी जानते हैं। बावजूद ​इसके भी अगर बीजेपी ने पीडीपी को तोड़ने की कोशिश की और कश्मीर के लोगों के हक पर डाका डाला यहां की स्थिति और बिगड़ जाएगी।

क्या कहा बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने
जम्मू-कश्मीर के बीजेपी अध्यक्ष रवींद्र रैना ने कहा कि महबूबा का बयान बहुत ही आपत्तिजनक है। इसकी कितनी भी निंदा ​की जाए कम है। बीजेपी कभी जोड़ तोड़ की राजनीति पर विश्वास नहीं करती। हम राज्य को शांति, सुशासन और विकास की ओर ले जाना चाहते हैं। इसके लिए जो भी करना पड़े हम करेंगे।

क्यों आग बबूला हैं महबूबा
बीजेपी के सहयोगी, पूर्व अलगाववादी सज्जाद लोन का पीपुल्स कॉन्फ्रेंस पीडीपी में एक राजनीतिक नियंत्रण स्थापित कर इसके बागी विधायकों का समर्थन हासिल करने का प्रयास कर रहे हैं। पीडीपी के पांच विधायकों ने सार्वजनिक तौर पर पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती के खिलाफ बयान दिया था। इतना ही नहीं बागी नेता इमरान अंसारी ने दो दिन पहले ही अलग मोर्चा बनाने की बात कही थी। अंसारी ने पीडीपी और नेशनल कॉन्फ्रेंस पर दिल्ली को ब्लैकमेल करने का आरोप भी लगाया था।

क्या है सरकार बनाने का आकड़ा
जम्मू और कश्मीर में 87 सीटे हैं। सरकार बनाने के लिए 44 विधायकों की जरूरत होती है। इतनी सीटें अभी किसी एक पार्टी के पास नहीं हैं। सदन में पीडीपी के पास 28 एमएलए हैं। बीजेपी के पास 25 हैं साथ ही इसे पीपल्स कांफ्रेंस के दो और लद्दाख के एक विधायक का समर्थन प्राप्त है।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here